इस बार नही भरेगा अलवर के पांडुपोल और लोक देवता भृर्तहरि बाबा का मेला | Pandupole Mela Date

 इस बार, सरिस्का के मैदानी इलाकों में स्थित लोक देवताओं के भृतहरी बाबा और पांडुपोल का मेला नहीं भरा गया। कोरोना संक्रमण के कारण, जिले भर के सभी धार्मिक स्थल 31 अगस्त तक पूरी तरह से बंद हैं, जिसके कारण पांडुपोल मेला, जो इस बार 25 अगस्त को भरा जाना है और 26 अगस्त के अगले दिन, भितरी हरि बाबा का मेला नहीं भरा गया।
इस बार सरिस्का की वादियों में स्थित लोक देवता भृर्तहरि बाबा व पांडुपोल का मेला नहीं भरा है। कोरोना संक्रमण की वजह से जिले भर में सभी धार्मिक स्थल 31 अगस्त तक पूर्ण रूप से बंद है

अलवर जिले के दोनों मेलों में हर साल देश भर से लाखों भक्त आते हैं। भक्त अपनी मनोकामना पूर्ण होने पर सुमनी सहित धार्मिक अनुष्ठान करते हैं। हर साल मेले से 1 महीने पहले मेला स्थल पर तैयारियां शुरू हो जाती हैं, लेकिन इस बार ग्राम पंचायत माधोगढ़ के क्षेत्र में स्थित भैरथहरी धाम में कोई तैयारी नहीं की जा रही है। Covid-19 के कारण भक्त भी मंदिर नहीं जा रहे हैं। जिला प्रशासन द्वारा पांडुपोल में मेले के लिए राजकीय अवकाश घोषित किया गया है। Read More:- Best Apple Watch Clone Under Rs 1000

बाबा भृर्तहरि व पांडुपोल के मेले नहीं भरने से श्रद्धालुओं को इस बार अपने घर में ही अखंड ज्योत जलाकर अष्टमी को पूजा अर्चना करनी होगी। श्रृद्धालु इस दौरान दाल बाटी चूरमा का पकवान बनाकर बाबा को भोग लगाएंगे। बड़ी संख्या में श्रद्धालु अलवर जिले सहित प्रदेश के अन्य क्षेत्रों व दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश पंजाब आदि क्षेत्रों से आते हैं जो कि इस बार नहीं आएंगे। Read More:- Bina investment Ke Ghar Baithe paise Kaise kamaye? meesho reselling app review


माधवगढ़ ग्राम पंचायत सरपंच सुशीला देवी ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते इस बार तीन दिवसीय बाबा भृर्तहरि का मेला नहीं भरेगा। इसलिए श्रद्धालु अपने घरों में ही बाबा की ज्योत देखरकर पूजा अर्चना करें। Read More:- How to Transfer BSNL Main Account Balance


पांडुपोल सरिस्का टाइगर रिजर्व (अलवर जिला, राजस्थान) में एक पर्यटक स्थल है, और इसके साथ एक प्राचीन पौराणिक कथा जुड़ी हुई है। पांडुपोल वह प्राचीन स्थल था जहां पांडवों में सबसे मजबूत भीम ने विशालकाय दानव हिडिंब को जीत लिया था और इस जीत के बदले में उसने अपनी बहन हिडिम्बा का हाथ थामा था। इसमें कठोर और कॉम्पैक्ट चट्टानों से उभरने वाला झरना भी है।

किंवदंती है कि पांडव भाई ने अपने निर्वासन के दौरान यहां शरण ली थी। मुख्य मार्ग पांडुपोल ले जाता है, जो न केवल एक सुंदर स्थान है, जो 35 फीट झरना है, यहां एक और आकर्षण है और गिरने के बगल में एक आकर्षक छोटा हनुमान मंदिर है। यह क्षेत्र लंगूरों, मोर, स्पुरफ्लो और सर्वव्यापी पेड़ के पीसों में प्रचुर मात्रा में है। पांडुपोल, कर्णकाबास झील, ब्रह्मनाथ, कालीघाटी चौकी और भैरोंघाटी के रास्ते में भी हैं।


पांडुपोल के बारे में

पांडुपोल सरिस्का टाइगर रिजर्व अलवर क्षेत्र, राजस्थान में एक वेकेशन स्पॉट है और इसका एक पुराना पौराणिक प्रभाव है। पांडुपोल पुरातन स्थल था, जहाँ पांडवों में सबसे अधिक, भीम, विशाल शैतान हिडिम्ब को जीत कर आए और इस विजय के उपोत्पाद के रूप में उनकी बहन हिडिम्बा का हाथ मिला। इसके अतिरिक्त कड़ी और छोटी चट्टानों से बाहर गिरने वाला झरना है। कहते है कि उनके बहिष्कार के बीच पांडव भाईयो ने यहाँ शरण ली थी। इसलिए मूल रूप से पांडुपोल कहा जाता है, जो केवल एक रमणीय स्थान नहीं है सुंदर 35-फीट झरना है  जो काफी आक्रशित है और निचे से एक हनुमान अभयारण्य है। देखने और सुनने में बहुत अच्छा लगता है  और में आकाश यहाँ का स्थानीय निवासी हूँ तो आप दी गयी जानकारी से संतुस्ट होंगे

 Pandupole Mela Date 2020 

सरिस्का के मैदानी इलाकों में स्थित लोक देवताओं के भृतहरी बाबा और पांडुपोल का मेला नहीं भरा गया। कोरोना संक्रमण के कारण, जिले भर के सभी धार्मिक स्थल 31 अगस्त तक पूरी तरह से बंद हैं, जिसके कारण पांडुपोल मेला, जो इस बार 25 अगस्त को भरा जाना है और 26 अगस्त के अगले दिन, भितरी हरि बाबा का मेला नहीं गाया गया।

अगर इससे संबंधित कोई भी अपडेट आएगा तो हम आपको बता देंगे तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं ताकि उनको भी इस मेल के बारे में सारी जानकारी मिल सके हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे तो आप अपने सोशल मीडिया पर इसको शेयर कर सकते हैं और नेक्स्ट अपडेट के लिए इस पोस्ट को आप बुकमार्क कर सकते हैं या फिर आप ईमेल के थ्रू नोटिफिकेशन पा सकते हैं इसके लिए आपको हमारे ब्लॉक को सब्सक्राइब करना होगा जिससे कोई भी पोस्ट डालेगी आपको एक मोटिवेशन मिल जाएगा | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here